Commodity trading - क्या? कैसे? कहाँ?

फरवरी 05, 2021 09:30 UTC
Reading time: 46 मिनट

वित्तीय बाज़ारों में व्यापार करते समय कमोडिटी ट्रेडिंग सबसे दिलचस्प विषयों में से एक है। हालाँकि ज़्यादातर लोग शेयर ट्रेडिंग के बारे में अक्सर अवधारणा रखते हैं, commodities trading के बारे में हर किसी को ज़्यादा ज्ञान नहीं होता है। 

कमोडिटी बाजार क्या होता है? कमोडिटी ट्रेडिंग क्या है? कमोडिटी ट्रेडिंग कैसे करे? - क्या आपके मन में यह सब सवाल है?

तो एक लेख पढ़ते रहें। इस लेख में हम आपको commodity vyapar के बारे में सम्पूर्ण ज्ञान प्रदान करेंगे। 

Commodity trading

क्या आप जानते हैं कि कमोडिटी ट्रेडिंग की शुरुवात प्राचीन सभ्यता से हुई थी?

सुमेर (अब आधुनिक दिन इराक) में ४५०० और ४००० ईसा पूर्व मे कमोडिटी मार्केट था। स्थानीय लोग मिट्टी के टोकन से बकरी खरीदते थें। १७ वीं शताब्दी के जापान में भी, चावल के व्यापारी खरीदारों भी 'राइस टिकट' (जैसे सुमेर के मिट्टी के टोकन) बेचकर अपना चावल का भंडार बेचते थे।

आज हम जो कमोडिटी बाजार में ट्रेडिंग देखते हैं, वो वास्तव में १८४८ में शिकागो बोर्ड ऑफ ट्रेड की स्थापना से शुरू हुआ था।अब यह दुनिया का सबसे लोकप्रिय बाज़ारों मे से एक है जिसमे संस्थानों, व्यवसायों और सट्टेबाजों समान रूप से व्यापार करते हैं। 

हर व्यक्ति हर दिन विभिन्न commodities के साथ काम करता है - आपकी सुबह की कॉफी या चाय से, आपकी गाड़ी को ईंधन देने वाली तेल या खाना बनाने वाली गैस से आपके घर को बिजली तक सब ही कमोडिटी है। जो आपको कच्चे माल के रूप में महसूस नहीं हो सकता, वो भी कमोडिटी है। ऊपर दिए गए उदाहरण में से सभी ऐसी संपत्ति है जिसेमें निवेश किया जा सके और लाभ कामाया जा सके।

What Is Commodity Trading?

Commodity trading basics समझने के लिए commodity Hindi क्या है यह जानना सबसे महत्वपूर्ण है। 

👍 कमोडिटी की परिभाषा है: एक बुनियादी वस्तु या कच्चा माल जो वाणिज्य में उपयोग किया जाता है। 

एक कमोडिटी दूसरी कमोडिटी के निर्माण के लिए कच्ची सामग्री हो सकता है, जैसे के, चीनी और कोको दोनों ही commodity हैं जो एक चॉकलेट के निर्माण के लिए कच्ची सामग्री है।

Commodities विनिमेय योग्य और मानकीकृत हैं, उनके मूल्यों उनके साथ संबंधित वस्तु विनिमय द्वारा निर्धारित किया जाता है। इसका मतलब यह है कि यह कोई मायने नहीं रखता के कौन एक वस्तु चाहता है या कहाँ उसका उत्पादन किया गया है, कमोडिटी की दो समतुल्य इकाइयाँ का, कम या ज्यादा, एक ही गुणवत्ता और कीमत होती हैं। इसलिए भारत, ब्राजील या थाईलैंड में पैदा किया गया ५०० ग्राम चीनी का एक ही मूल्य होगा।

ऐतिहासिक समय में, कमोडिटीज़ का भौतिक रूप से कारोबार किया गया जाता था, जबकि आज, अधिकांश कमोडिटी का ऑनलाइन ट्रेडिंग होती है।

यदि आप ऑनलाइन कुछ सबसे लोकप्रिय वस्तुओं का व्यापार करने के लिए तैयार हैं, तो आप एडमिरल मार्केट्स के साथ ऐसा कर सकते हैं! हम पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, कॉफी, संतरे का रस और यहां तक कि सोने का भी सीऍफ़डी के माध्यम से निवेशकों को ऑनलाइन ट्रेडिंग का मौका देतें हैं! 

एक ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए आज ही नीचे तस्वीर पर क्लिक करें। 

एक ट्रेडिंग खाता खोलें

कमोडिटी मार्केट के ४ श्रेणियाँ

आइये अब देखते हैं की commodity market in Hindi में कितने प्रकार की वस्तुओं का व्यापार होता है:

Commodities को या तो उगाया जाता है, या उत्पादित किया जाता है। चार मुख्य श्रेणियां हैं जो कमोडिटी मार्केट को परिभाषित करती हैं:

१. कृषि वस्तुएं: इसमें कच्चा माल जैसे चीनी, कपास, कॉफी बीन्स आदि शामिल हैं।

२. ऊर्जा वस्तुएं: इसमें तेल और गैस जैसे पेट्रोल उत्पाद शामिल हैं।

३. धातु वस्तुएं: इसमें सोना, चांदी और प्लैटिनम जैसी कीमती धातुएं शामिल हैं, लेकिन तांबा जैसी आधार धातुएं भी हैं।

४. पशु वस्तुएं: इसमें सूअर का मांस, जीवित पशु और दूसरा सामान्य पशु, साथ ही मांस शामिल हैं।

कमोडिटी मार्किट में आपको और एक तरह की श्रेणी मिलेगी:

✔️ कड़ी वस्तुयें या हार्ड कमोडिटीज: यह ज्यादातर वो होती हैं, जिनका खनन किया जाता है (सोना, तेल आदि)
✔️ नरम वस्तुयें या सॉफ्ट कमोडिटीज: यह कृषि या पशु होते हैं (गेहूं, सोयाबीन, सूयर की मांस, चीनी आदि)

जैसा कि आप कल्पना कर सकते हैं, कुछ वस्तुओं को दूसरों की तुलना में अधिक सक्रिय रूप से कारोबार किया जाता है। उदाहरण के लिए, फीडर कैटल मार्केट में केवल किसान और स्टॉक की वितरण कंपनी शामिल हो सकती है - जिससे उस बाजार में ज़्यादा ट्रेडिंग गतिविधि का उत्पादन नहीं होता है। वास्तव में, ट्रेडिंग व्यू के अनुसार, सितंबर २०१९ के लिए फीडर कैटल की कुल व्यापारिक मात्रा ३६,००० अनुबंध थी। यह संख्या दर्शाती है कि फीडर कैटल को खरीदने या बेचने के अधिकार के लिए कितने अनुबंध खरीदे और बेचे गए हैं।

हालांकि, तेल जैसे बाजार में सार्वजनिक ड्रिलिंग कंपनियां, सरकार समर्थित ड्रिलिंग कंपनियां, बीपी और शेल जैसी सेवा कंपनियां, एयरलाइंस शामिल होंगी जो अपनी ईंधन लागत को जांचने के लिए और निश्चित रूप से सट्टेबाजों को नियंत्रण में रखने के लिए तेल खरीदने और बेचने में सक्रिय रूप से शामिल हैं। ट्रेडिंग व्यू के अनुसार, सितंबर २०१९ में क्रूड ऑयल की कुल व्यापारिक मात्रा लगभग १.४ करोड़ अनुबंध थी - जो फीडर कैटल से बहुत बड़ा अंतर है।

आगे हम आपको यह बताएँगे कि वित्तीय बाजारों में किन वस्तुओं का सबसे अधिक कारोबार होता है।

चलिए अब विभिन्न Commodity श्रेणियों को और गहरायी से देखें।

✳️ कृषि माल - Commodity Trading India

▶ कॉफी: कॉफी दुनिया के पसंदीदा पेय पदार्थों में से एक है जिसका एक दिन में 225 करोड़ कप का सेवन किया जाता है। यह दुनिया के पसंदीदा कमोडिटी बाजारों में से एक है और पेट्रोलियम के बाद दूसरा सबसे अधिक कारोबार वाला बाजार है।

▶ चीनी: सफेद और कच्ची चीनी दोनों को कमोडिटी के रूप में कारोबार किया जाता है। जबकि हम में से अधिकांश चीनी को मिठास का उपाय मानते हैं, लेकिन यह इथेनॉल के उत्पादन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

भविष्यवाणी यह के की २०२४ में चीनी का बाजार चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर २.९% से बड़के USD ८९२४ करोड़ तक पहुंचेगी।

✳️ ऊर्जा कमोडिटीज - Commodity Trading Online

▶ क्रूड ऑयल: क्रूड ऑयल व्यापार के लिए एक लोकप्रिय कमोडिटी है क्योंकि यह बहुत अस्थिर हो सकता है। सऊदी अरब, अमेरिका, रूस और चीन सहित कच्चे तेल के शीर्ष उत्पादकों के साथ, यह एक ऐसा बाजार है जो राजनीतिक घटनाओं के लिए बहुत प्रतिक्रियाशील है। इस वस्तु की मांग भी अधिक है, क्योंकि कच्चे तेल का उपयोग परिवहन ईंधन, प्लास्टिक, सिंथेटिक वस्त्र, उर्वरक, कंप्यूटर, सौंदर्य प्रसाधन और अधिक के उत्पादन के लिए किया जाता है। प्रमुख तेल बेंचमार्क WTI और ब्रेंट क्रूड ऑयल है।

कच्चे तेल की ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानने के लिए आप हमारी यह लेख पढ़ सकते हैं:

Crude Oil Trading कैसे करें 

▶ प्राकृतिक गैस: इस वस्तु का बिजली पैदा करने के सहित कई औद्योगिक, आवासीय और वाणिज्यिक उपयोग हैं। शीर्ष प्राकृतिक गैस उत्पादक गज़प्रॉम, रॉयल डच शेल, एक्सॉनमोबिल, पेट्रो चाइना और बीपी हैं।

✳️ धातु कमोडिटीज - Commodities Trading

▶ सोना: सोना एक लोकप्रिय वस्तु है। इसे एक सुरक्षित संपत्ति के रूप में जाना जाता है। आमतौर पर यहां निवेशक अपने पैसे डालते हैं जब बाजार में उथल-पुथल होती है। इसका मतलब है कि सोने को अक्सर अमेरिकी डॉलर के साथ विपरीत रूप से सहसंबद्ध किया जाता है।

सोने के ट्रेडिंग के बारे में गहरायी से जानने के लिए हम आपको यह लेख पढ़ने की सलाह देंगे:

Gold Vyapar पर एक सम्पूर्ण गाइड

▶ चांदी: जबकि सोना व्यापार के लिए सबसे लोकप्रिय धातु वस्तु है, चांदी के भी कुछ फायदे हैं। इनमें से एक यह है कि चांदी की कीमत सोने की कीमत की तुलना में बहुत तेजी से आगे बढ़ती है, जिसके वजह से यह सक्रिय commodity व्यापारियों के लिए आकर्षक हो जाता है। दूसरी ओर, सोना का मूल्य अधिक होता है और अक्सर इसे लंबी अवधि के निवेशकों के लिए आकर्षक माना जाता है।

▶ तांबा: बिजली के उपकरण, इंजीनियरिंग, नल-साजी और खाना पकाने के बर्तनों के लिए इस्तेमाल की जा रही लगातार उच्च मांग से तांबा को फायदा होता है। यह मूल्य वैश्विक अर्थव्यवस्था का एक विश्वसनीय बैरोमीटर माना जाता है, इसलिए तांबे में निवेश विश्व जीडीपी पर एक स्थिर रुख लेने का एक तरीका है।

एडमिरल मार्केट्स के साथ कमोडिटी ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध वस्तुएं

एडमिरल मार्केट्स के साथ आप व्यापार किए गए सबसे बड़े कमोडिटीज में से १६ कमोडिटीज और उन पर सीएफडी का ट्रेडिंग कर सकते हैं, साथ ही कमोडिटी फ्यूचर्स पर १० सीएफडी पर भी ट्रेडिंग कर सकते हैं।

नीचे हमने उपलब्ध वस्तुयों की एक सूची बनायें है:

कृषि कमोडिटीज ऊर्जा कमोडिटीज धातु कमोडिटीज

  • अरेबिका कॉफी
  • कोको
  • कपास
  • संतरे का रस
  • रोबस्टा कॉफी
  • कच्चा चीनी
  • सफेद चीनी
  • ब्रेंट क्रूड ऑयल
  • डब्ल्यूटीआई क्रूड ऑयल
  • प्राकृतिक गैस

एडमिरल मार्केट्स वेबसाइट पर उपकरण पृष्ठ के अंतर्गत कमोडिटीज़ पृष्ठ पर आप इन सबका विवरण देख सकते हैं। 

यदि आप इन वस्तुओं का व्यापार शुरू करने के लिए तैयार हैं, तो देर न करें! एडमिरल मार्केट्स के साथ एक खोल आप कमोडिटीज के साथ साथ मुद्राओं, शेयरों, बॉन्ड और अन्य हजारों बाजारों में ट्रेडिंग कर सकते हैं। बस नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें और शुरू हो जाएं!

ट्रेडिंग शुरू करें!

कमोडिटी मार्केट लाइव रेट्स किस्से प्रवाभित होते हैं?

प्रत्येक व्यक्तिगत वस्तु में कई अद्वितीय कारक होते हैं जो उसकी कीमत को प्रभावित करते हैं। Commodity market meaning in Hindi में एक वस्तु की कीमत ऊपर जा सकता है जब कमोडिटी की कमी या बहुतायत को खतरा हो। कुल मिलाकर सभी वस्तुओं पर सबसे बड़ा प्रभाव आपूर्ति और मांग में परिवर्तन से उबलता है, हालांकि, अमेरिकी डॉलर, प्रतिस्थापन और मौसम जैसे अन्य तत्वों से भी प्रभाव पड़ सकता है।

१. कमोडिटी की आपूर्ति 

एक वस्तु की आपूर्ति कई कारकों से प्रभावित हो सकती है, जैसे कि सरकारी हस्तक्षेप, मौसम, युद्ध, इत्यादि।

उदाहरण के लिए, १४ सितंबर २०१९ को, विस्फोटक ड्रोनों के झुंड ने सऊदी अरब में दुनिया के सबसे बड़े तेल प्रसंस्करण संयंत्र पर हमला किया, जिससे वैश्विक तेल उत्पादन प्रति दिन ५ मिलियन बैरल कम हो गया। यह लगभग आधा सऊदिया अरब के वर्तमान उत्पादन और वैश्विक उत्पादन का ५% है और इस घटना के कारण तेल की कीमतों में बहुत बड़ा उछाल आया।

जब १६ सितंबर को बाजार खुला, तो ब्रेंट क्रूड ऑयल १३ सितंबर की शाम को ६०.४२ से बढ़कर १६ सितंबर को बाजार में ७२.१९ पर खुला जो की - १९.४% छलांग है। इसी अवधि में, डब्ल्यूटीआई क्रूड ऑयल ५४.७९ से ६३.२८ तक १५.५% उछला।

Commodity WTI Daily Chart

स्रोत: Admiral Markets - WTI Daily Chart - Data range: 7 May 2019 to 12 December 2019 - Performed on 12 December 2019.  - कृपया ध्यान दें: पिछला प्रदर्शन भविष्य के परिणामों को इंगित नहीं करता है, न ही यह भविष्य के प्रदर्शन का एक विश्वसनीय संकेतक है।

लेकिन क्यूं? बाजार में कम तेल उपलब्ध था। लेकिन क्योंकि मांग नहीं बदली, जो भी तेल बचा था, उस पर हाथ पाने के लिए संस्थानों ने हाथापाई की। ऐसी 'कमी' आमतौर पर मूल्य वृद्धि की ओर ले जाती है।

जब वस्तुओं के व्यापार की बात आती है, तो यह याद रखना पड़ता है कि ऊर्जा वस्तुओं की आपूर्ति ज्यादातर सरकारी नीति (जैसे आर्थिक प्रतिबंध) और मध्य पूर्वी तनाव से प्रभावित होती है क्योंकि सऊदी अरब के पास दुनिया के सिद्ध तेल भंडार का पांचवा हिस्सा है।

२. कमोडिटी की मांग 

एक वस्तु की मांग कारकों की एक भीड़ से प्रभावित हो सकती है, जैसे कि उपभोक्ता की आदतों में बदलाव और अर्थव्यवस्था का स्वास्थ्य। उदाहरण के लिए, लोगों के चीनी के सेवन के आदतें बदल गई है। लोग सक्रिय रूप से कम चीनी का उपभोग करने की कोशिश कर रहे हैं। यदि पर्याप्त लोग यह करते हैं तो मांग उसी के अनुसार सिकुड़ जाती है।

नीचे दिए गए चार्ट में, हम एक विस्तारित अवधि के लिए चीनी की कीमतों को देख सकते हैं:  

White Sugar Commodity Price Daily Chart

Source: Admiral Markets MT5 Supreme Edition - Sugar.White Daily Chart - Data range: 19 April 2009 to 16 June 2020 - Performed on 16 June 2020 at 4:20 PM GMT - कृपया ध्यान दें: पिछला प्रदर्शन भविष्य के परिणामों को इंगित नहीं करता है, न ही यह भविष्य के प्रदर्शन का एक विश्वसनीय संकेतक है।

ऊपर चार्ट में जो पीला बक्सा है वो २००२ की शुरुआत में चीनी की कीमत में तेज चढ़ाव को दर्शाते है। हालांकि, एक वैश्विक कमी पर चिंताओं के कारण सितंबर २०१५ से सितंबर २०१६ के बीच उच्चतर चाल थी। वास्तव में, यह ब्राजील के एक गन्ने की फसल (जो कि दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक है) में आपूर्ति में व्यवधान के कारण था, जिसने चीनी को 'दुर्लभ' बनने में मदद की, और इस कारण कीमतें अधिक बढ़ गईं थी।

हालांकि, इस विशेष उदाहरण में, मांग ने अंत में एक बड़ा प्रभाव डाला, और कीमतों को वापस भेज दिया, जबकि मौसम में बदलाव के कारण उस समय के दौरान चीनी की कीमतें अधिक हो गई थीं। यह एक कारण है कि कमोडिटी सीऍफ़डी ट्रेडिंग इस 'चीनी' परिदृश्य में मददगार हो सकता है।

कमोडिटी सीएफडी के साथ आप गिरते बाजार के साथ-साथ बढ़ते बाजार से भी लाभ उठा सकते हैं - जब तक आपको सही दिशा मिलती है। यह how to trade in commodity market का एक अच्छा समाधान है।

तो, चलिए अब उन कारकों के बारे में थोड़ा और जानें जो commodities meaning in Hindi की कीमतों को चलाते हैं, साथ ही साथ commodity trading India के लिए एक लोकप्रिय वाहन भी है। 

अगर आप सोच रहें हैं की how to trade in commodity market without loss, तो आपको पहले एक जोखिम मुक्त डेमो खाता खोल कमोडिटी व्यापार का अभ्यास करना चाहिए।

एडमिरल मार्केट्स के मुफ्त डेमो खाता के साथ, आप दुनिया के हजारों वित्तीय बाजारों (ऊर्जा, धातु और कृषि वस्तुओं सहित) में जोखिम मुक्त व्यापार कर सकते हैं! बस निचे दिए गए बैनर पर क्लिक करें और आज ही ट्रेडिंग शुरू करें! 

एक डेमो खाता खोलें

३. अमेरिकी डॉलर और Commodity In Hindi भाव के बीच संबंध: 

आपूर्ति और मांग के साथ, commodities meaning in Hindi की कीमतें और एक चीज़ से काफी प्रभावित होती है - अमरीकी डॉलर का व्यवहार।

अमेरिकी डॉलर दुनिया की आरक्षित मुद्रा है, और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में, वस्तुओं की कीमत USD में दिया जाता है। इसका मतलब यह है कि जब डॉलर का मूल्य अन्य मुद्राओं के मुकाबले गिरता है, तो commodity in Hindi की खरीद में अधिक डॉलर लगता है, यानी meaning of commodities in Hindi की कीमतें USD में अधिक होते हैं।

इसके अलावा, सोना एक सुरक्षित संपत्ति के रूप में देखा जाता है, और अक्सर ऐसा होता है जब USD का मूल्य नीचे जाता है, तो निवेशक पलट जातें हैं, विशेष रूप से आर्थिक उथल-पुथल के समय में। इसलिए सोना न केवल USD की अधिक कीमत होने से लाभ करता है, बल्कि यह आगे के निवेश से भी लाभान्वित होता है, जिससे अन्य वस्तुओं तुलना में बड़े उछाल हो सकते हैं।

Commodity प्रतिस्थापन

प्रतिस्थापन का सीधा मतलब है कि बाजार जहां संभव हो, वहां सस्ता विकल्प तलाशेंगे। जब एक विशेष वस्तु अधिक मेहेंगा हो जाता है, खरीदार सस्ता विकल्प तलाशेंगे। यदि उन्हें एक उपयुक्त विकल्प मिल जाता है, तो वे उस वस्तु को खरीदना शुरू कर देंगे, जिससे कमोडिटी की मांग कम हो सकती है और इसके परिणामस्वरूप कीमत घट सकती है।

इसका एक अच्छा उदाहरण तांबा है, जिसका उपयोग कई औद्योगिक अनुप्रयोगों में किया जाता है। जैसे-जैसे तांबे की कीमत बढ़ती है, कई निर्माताओं इसके बजाय एल्यूमीनियम का उपयोग करना शुरू कर देते है।

४. मौसम का प्रभाव

मौसम भी commodity Hindi की कीमतों को प्रभावित कर सकता है। विशेष रूप से, असामान्य या अप्रत्याशित मौसम परिवर्तन जैसे अति वर्षा या सूखे का कृषि वस्तुओं पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। कोको, कॉफी और संतरे के रस के लिए संतरा जैसी वस्तुओं उगाया जाता है, और इसलिए फसलों को उगाने के लिए अनुरूप मौसम चक्र की जरूरत होती है।

मौसम कमोडिटी मार्केट लाइव रेट्स को भी प्रभावित कर सकता है। जैसे की गंभीर सर्दियां में ताप साधन की मांग बढ़ती हैं, जिससे तेल और प्राकृतिक गैस की मांग बढ़ती है। वैसे ही अत्यधिक गर्म मौसम एयर कंडीशनिंग की आवश्यकता को बढ़ाता है। इससे बिजली उत्पादन में शामिल वस्तुओं, जैसे प्राकृतिक गैस और कोयले की मांग बढ़ती है।

Commodity Vyapar शुरू करने के लिए ३ शीर्ष कारण

Commodity trading India शुरू करने के कई कारण हैं। शीर्ष तीन कारण जो व्यापारियों के लिए कमोडिटी ट्रेडिंग को दिलचस्प निवेश बनाते हैं वह है - बढ़ती वैश्विक जनसंख्या, मुद्रास्फीति की दर में वृद्धि और पोर्टफोलियो विविधीकरण।

#१. जनसंख्या वृद्धि - Commodities Trading

बीसवीं सदी की शुरुआत से वैश्विक जनसंख्या वृद्धि का विस्फोट हुआ। एक समय पर वैश्विक जनसंख्या ७.७ बिलियन तक पहुंच गई थी। जबकि वार्षिक विकास दर धीमी हो रही है, यह अभी भी प्रति वर्ष लगभग १% से बढ़ रही है, जिसका अर्थ है कि संख्या चढ़ाई जारी रहेगी।

जनसंख्या वृद्धि बुनियादी ढांचे की मांग पैदा करती है, जो धातु और ऊर्जा दोनों वस्तुओं की मांग पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। इसके अलावा, अधिक लोगों का मतलब है कि खिलाने के लिए अधिक मुंह हैं, जो कृषि वस्तुओं की मांग को भी प्रभावित करता है।

अंत में, अधिक लोग का मतलब है अधिक मांग, जिसका अर्थ है कि लंबी अवधि में कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि जारी रहने की संभावना है।

#२. मुद्रास्फीति हेजिंग - What Is Commodity Market In Hindi

मुद्रास्फीति वह दर है जिस पर कीमतें बढ़ती हैं, और इसका मतलब है कि आज के पैसे में भविष्य में क्रय शक्ति कम होती है। वस्तुओं के संदर्भ में, इसका मतलब है कि भविष्य में दी गई वस्तु की समान मात्रा को खरीदने के लिए अधिक डॉलर खर्च होगा।

सीधे वस्तुओं में निवेश करके माहिर व्यापारी इन मूल्य वृद्धि से खुद की रक्षा कर सकते हैं, और भविष्य में अधिक कीमत के लिए वस्तुओं को बेचने से संभावित लाभ उठा सकते हैं।

#३. पोर्टफोलियो में विविधता - Commodity Trading India

कई निवेशकों के पास विविध पोर्टफोलियो नहीं होती है। कई देशों में, एक घर के निवल मूल्य का थोक उनकी संपत्ति में बंधा हुआ है। इस बीच, जो लोग निवेश करते हैं वे स्टॉक या बॉन्ड को पसंद करते हैं।

इसके साथ मुद्दा यह है कि यदि आप जिस बाजार में निवेश कर रहे हैं वो नीचे की ओर मोड़ लेता है (जैसे कि यदि अचल संपत्ति या शेयर बाजार दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है), तो आपका पोर्टफोलियो मार खायेगा। यदि आपने कई परिसंपत्तियों में निवेश किया है, तो दूसरी ओर, गिरते बाजारों में व्यक्तिगत निवेश प्रभावित होगा, लेकिन समग्र पोर्टफोलियो को अछूता रहेगा, क्योंकि अन्य बाजार स्थिर रहेंगे या चढ़ भी सकते हैं।

कमोडिटी एक परिसंपत्ति वर्ग है जो आपके पोर्टफोलियो में विविधीकरण लाता है। Learn commodity trading और बेहतर जोखिम प्रबंधन का यह एक महत्वपूर्ण पथ है।

चलिए यह commodity me trading kaise kare लेख को आगे बढ़ाते हैं।

Demo trading

How Do I Start Trading Commodities?

Commodity trading online में निवेश करने के कई विकल्प है - भौतिक वस्तु, कमोडिटी फ्यूचर्स, कमोडिटी ऑप्शनस, कमोडिटी ईटीएफ, कमोडिटी शेयर, और कमोडिटीज सीएफडी ट्रेडिंग। चलिए नीचे दिए गए इन विकल्पों को देखते हैं:

१. भौतिक कमोडिटीज में कमोडिटी ट्रेडिंग

वस्तुओं में निवेश करने का एक तरीका सीधे स्रोत पर जाना और अपने सामानों की खरीदना है (जैसे कि तेल, या सोना, या चीनी सीधे खरीदना)। समय के साथ, यदि कीमतें बढ़ती हैं, तो आप एक खरीदार पा सकते हैं और मूल्य अंतर से लाभ कमा सकते हैं।

लेकिन, क्या वास्तव में यह संभव है कि आप एक तेल, या चीनी का उत्पादक और विक्रेता से खुद सामान खरीदने के लिए जाएं? 

फिर आपको अपने सामान के लिए एक खरीदार भी ढूंढना होगा। आपको अपना माल एक गुडम में रखना भी होगा!

इसके अलावा, आपको अपने निवेश के लिए सुरक्षा पर विचार करना होगा। यदि आप कीमती धातुएँ खरीदते थे (जैसे के सोना), तो आपको एक सुरक्षित भंडारण सुविधा की आवश्यकता होगी, जो आपके निवेश की लागत और जटिलता को बढ़ाती है।

२. कमोडिटी फ्यूचर्स में Investing Commodity Real-Time

जैसा कि हमने पहले चर्चा की, फ्यूचरस अनुबंध हैं जहां एक विक्रेता भविष्य में किसी विशेष दिन एक निश्चित वस्तु की निश्चित मात्रा को एक खरीदार को बेचने के लिए सहमत होता है। फ्यूचरस अनुबंध का खरीदार अनुबंध की समाप्ति तिथि पर विक्रेता से अंतर्निहित वस्तु खरीदने के लिए एक निश्चित मूल्य पर सहमत होगा।

फ्यूचुरस के बारे में अधिक जानने के लिए आप हमारी लेख Future contract में ट्रेडिंग - एक सविस्तार गाइड पढ़ सकते हैं।

ऐतिहासिक रूप से, फ्यूचरस अनुबंध की समाप्ति पर, कमोडिटी खरीदार से विक्रेता के हाथ में चला जाता है। हालांकि, आजकल कई व्यापारी कमोडिटी की कीमतों पर सट्टा लगाने के लिए एक वाहन के रूप में वायदा का उपयोग करते हैं, और अनुबंध समाप्त होने के बाद कमोडिटी का स्वामित्व लेने का कोई इरादा नहीं रखते हैं।

यदि कमोडिटी की कीमत अनुबंध की खरीद तिथि और अनुबंध की समाप्ति तिथि के बीच बढ़ती है, तो व्यापारी फ्यूचरस अनुबंध को लाभ पर बेच सकता है। यदि कीमत गिरती है, तो व्यापारी नुकसान करेगा।

कमोडिटी फ्यूचरस व्यवसा के लाभों में से एक है, लिवरेज का उपयोग, जो व्यापारियों को उनके उपलब्ध धन के साथ जो खरीद सकते हैं उससे ज़्यादा व्यापार करने की अनुमति देता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई वायदा अनुबंध १:१० के उत्तोलन के साथ पेश किया जाता है, तो इसका मतलब है कि जो १ डॉलर व्यापारी निवेश करने के लिए तैयार है, उससे वो १० डॉलर मूल्य की वस्तु खरीद सकते हैं।

यह व्यापारिक लाभ को बढ़ा सकता है, लेकिन व्यापार के नुकसान को भी बढ़ा सकता है।

जबकि उत्तोलन फ्यूचरस कारोबार को नए व्यापारियों के लिए आकर्षक बना सकता है, फ्यूचरस कारोबार अत्यधिक जटिल है क्योंकि बाजार मूल्य निर्धारण का मूल्यांकन करने और जिस दिशा में वह आगे बढ़ेगा, उसका अनुमान लगाने के लिए कई कारक हैं। उदाहरण के लिए, कमोडिटी की वर्तमान कीमत को देखने के साथ-साथ, भंडारण और ब्याज दरों की लागत और वे कमोडिटी की कीमतों को कैसे प्रभावित कर सकते हैं, इस पर विचार करना भी महत्वपूर्ण है।

कमोडिटी ट्रेडिंग

३. कमोडिटी ऑप्शंस - Learn Commodity Trading

फ्यूचरस की तरह, ऑप्शंस एक और प्रकार का व्युत्पन्न है जो आपको वस्तु को एकमुश्त खरीदे बिना वस्तु के बदलते मूल्य पर व्यापार करने की अनुमति देता है। ऑप्शंस भी लिवरेज का लाभ उठाते हैं, फ्यूचरस की तरह।

ऑप्शंस के बारे में और भी गहरायी से जानने के लिए आप हमारी लेख ऑप्शन ट्रेडिंग इन हिंदी - एक विस्तृत गाइड पढ़ सकते हैं। 

ऑप्शंस अनुबंध दो प्रकार के हैं - कॉल और पुट।

कॉल ऑप्शन के मालिक के पास एक निश्चित तिथि (समाप्ति तिथि) या उससे पहले एक निर्धारित मूल्य (स्ट्राइक प्राइस) पर कमोडिटी फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट खरीदने का अधिकार है लेकिन वह उनका कर्तव्य नहीं है। दूसरी ओर, पुट ऑप्शन के मालिक के पास समाप्ति तिथि पर या उससे पहले निर्धारित मूल्य (स्ट्राइक प्राइस) पर फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट बेचने का अधिकार है लेकिन वह उनका कर्तव्य नहीं है।

यदि भविष्य की कीमत स्ट्राइक मूल्य से अधिक हो जाती है, तो लाभ के लिए कॉल विकल्प बेचा जा सकता है। एक पुट विकल्प के लिए, इसका उल्टा लागु होता है - भविष्य की कीमत को स्ट्राइक प्राइस से नीचे आने की आवश्यकता है।

इसका मतलब यह है कि ऑप्शन व्यापारियों को न केवल यह विचार करने की आवश्यकता है कि उनकी रणनीति में बाजार मूल्य निर्धारण कैसे बदल जाएगा, बल्कि उन परिवर्तनों का समय भी महत्वपूर्ण होगा।

४. कमोडिटी ईटीएफ - Commodity Trading Basics

Commodity Hindi में जानने के लिए कमोडिटी ईटीएफ के बारे में जानना ज़रूरी है। ईटीएफ, या एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड, एक ऐसा फंड है जो वित्तीय परिसंपत्तियों के समूह में निवेश करता है। एक व्यापारी के रूप में, आप इन फंडों में ब्रोकर के माध्यम से या स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से निवेश कर सकते हैं।

अगर आप ईटीएफ को और भी गहरायी से जानना चाहते हैं तो हम आपको हमारी लेख Exchange Traded Funds - ETF Investment सीखें पढ़ने का सलाह देंगे।  

ईटीएफ शेयरों के गठरी के लिए सबसे अच्छी तरह से जाना जाता है। हालांकि, कुछ ईटीएफ भौतिक वस्तुओं जैसे सोने की बुलियन में निवेश करते हैं, अन्य कमोडिटी फ्यूचर्स या ऑप्शंस में निवेश करते हैं।

इसे ध्यान में रखते हुए, ईटीएफ ट्रेडिंग के साथ जुड़े जोखिम उन परिसंपत्तियों के जोखिमों को दर्शाते हैं जो उनके पास हैं। जिन ईटीएफ भौतिक वस्तुओं में निवेश करते हैं, भौतिक वस्तुओं में निवेश करने के समान जोखिम उठाते हैं, जबकि जो वायदा में निवेश करते हैं, वे सीधे वायदा खरीदने के समान जोखिम उठाते हैं।

कमोडिटी ईटीएफ में निवेश करने का एक मुख्य फायदा यह है कि इसमें निवेश करते समय व्यक्तिगत परिसंपत्तियों को चुनने के बजाय एक फंड के माध्यम से कई प्रकार की संपत्ति में निवेश किया जाता है। हालांकि, इसका मतलब यह भी हो सकता है कि आप हर कमोडिटी का बड़े आंदोलनों से फायदा नहीं उठा सकेंगे।

५. कमोडिटी शेयर - Investing Commodity Real Time

How to trade in commodity market without loss का यह एक अच्छा विकल्प है। 'कमोडिटी शेयर्स' से हमारा आशय उन कंपनियों के शेयरों से है, जो वस्तुओं का उत्पादन करते हैं। सिद्धांत यह है कि इन कंपनियों का राजस्व कमोडिटी की कीमत पर आधारित होता है जो वे बेच रहे हैं - यदि वस्तु की कीमत बढ़ती है, तो कंपनी के राजस्व और उसके शेयर की कीमत भी बढ़नी चाहिए।

हालांकि, इस दृष्टिकोण के साथ चुनौती यह है कि कमोडिटी की कीमतों को प्रभावित करने वाले कारकों के अलावा एक कमोडिटी उत्पादक के राजस्व के लिए जोखिम भी हैं। इसमें शामिल है:

✅ बाजार में प्रतिस्पर्धा

✅ व्यवसाय करने की लागत

✅ ब्याज दर

✅ स्थानीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन

✅ मूल्य / आय वृद्धि / संकुचन

Stock Trading For Beginners - एक संक्षिप्त गाइड लेख से आप शेयर ट्रेडिंग के बारे में काफी तथ्य पा सकते हैं। 

६. कमोडिटी सीएफडी - Meaning Of Commodity In Hindi

फ्यूचरस और ऑप्शंस की तरह, सीएफडी (कॉन्ट्रैक्ट्स फॉर डिफरेंस) एक और व्युत्पन्न उपकरण है जिसका उपयोग वस्तुओं का व्यापार करने के लिए किया जा सकता है।

सीएफडी व्यापारियों को वस्तुओं की बदलती कीमतों और अन्य परिसंपत्तियों पर अटकलें लगाने की अनुमति देते हैं, लेकिन उनका मालिक बनने का नहीं। वे मूल रूप से लंदन में १९९० के दशक में विकसित हुए थे, यूबीएस वारबर्ग में दो निवेश बैंकरों द्वारा।

अनिवार्य रूप से, एक सीएफडी दो पक्षों के बीच एक अनुबंध है - व्यापारी और दलाल। अनुबंध के अंत में, दोनों पक्ष उस समय वस्तु की कीमत के बीच अंतर का आदान-प्रदान करते हैं, जब वे अनुबंध में प्रवेश करते हैं, और अंत में वस्तु की कीमत जो होती है।

इसलिए अगर आपने सोने पर एक लॉन्ग (खरीद) सीएफडी व्यापार खोला, जब सोने की कीमत $ १,५२५ थी, और आपने सोने की कीमत १,५५५० डॉलर तक बढ़ने के बाद व्यापार बंद कर दिया, तो आप सोने की कीमत में अंतर पर लाभ कमाएंगे, जो की $ २५ है। यदि कीमत $ १,५०० तक गिर गई, तो आप $ २५ का नुकसान करेंगे। सरल शब्दों में, व्यापारी जिस वस्तु का व्यापार कर रहे हैं, उसके खुलने और बंद होने के बीच के अंतर का भुगतान करना पड़ता है।

फ्यूचरस और ऑप्शंस जैसे अन्य व्यापारिक वाहनों की तुलना में पदों में प्रवेश करने और बाहर निकलने की सादगी, केवल एक कारण है कि ट्रेडिंग कमोडिटी सीएफडी बहुत लोकप्रिय है। इसके इलावा कुछ अलग फायदे भी हैं, जैसे के:

✔️ उत्तोलन - एक खुदरा व्यापारी अपनी शेष राशि से बीस गुना व्यापार कर सकता है। एक पेशेवर व्यापारी अपनी शेष राशि से पांच सौ गुना व्यापार कर सकता है।

✔️ २४ घंटों / ५ दिन ट्रेडिंग - व्यापारी चौबीस घंटे, सप्ताह में पांच दिन व्यापार कर सकते हैं, पूरे विश्व में कई सारे कमोडिटीयों में।

✔️ शून्य कमीशन - व्यापारी शून्य कमीशन के साथ व्यापार कर सकते हैं, और अपना खाता सिर्फ २०० यूरो से शुरू कर सकते हैं।

✔️ बढ़ते और गिरते बाजार से लाभ - यदि आपको सही दिशा मिलती है! अन्यथा, नुकसान हो सकता है।

एडमिरल मार्केट्स के साथ कमोडिटी सीऍफ़डी को ट्रेडिंग करने के और भी लाभ हैं, जैसे:

नकारात्मक संतुलन संरक्षण नीति, जिसका अर्थ है कि यदि आपका खाता शेष ० से नीचे चला जाता है, तो एडमिरल मार्केट्स आपको ट्रेडिंग ऋण में गिरने के बजाय ० पर रीसेट कर देंगे।

कम व्यापार लागत, ० पिप्स से स्प्रेड चालू होता है

एक निशुल्क, प्रीमियम एनालिटिक्स पोर्टल जिसमें डाउ जोंस न्यूजवायर से समाचार फीड शामिल हैं, जिसमें प्रतिदिन ८५० लेख, बाजार की भावनाएं, आर्थिक कैलेंडर और बहुत कुछ शामिल हैं।

दुनिया के सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, मेटा ट्रेडर ४ और मेटा ट्रेडर ५ तक पहुंच

सही प्लेटफॉर्म और विश्वसनीय ब्रोकर होना ट्रेडिंग का बेहद महत्वपूर्ण पहलू है। एडमिरल मार्केट्स एक पुरस्कार विजेता दलाल है जो सीएफडी के माध्यम से वस्तुओं पर व्यापार करने की क्षमता प्रदान करता है। विदेशी मुद्रा, स्टॉक और ईटीएफ जैसे अन्य बाजारों तक पहुंच और बहुत कुछ सुविधाएं भी है।

Download MT5

सीएफडी Commodities Trading ट्रेडिंग उदाहरण

आइए एक कमोडिटी सीएफडी उदाहरण व्यापार देखें। मान लें की आपको लगता है कि ब्रेंट क्रूड ऑयल की कीमत गिरने वाली है, इसलिए आप बेचने, या शार्ट व्यापार को खोलने का फैसला करते हैं। आप एक कीमत पर एक व्यापार खोलेंगे और यदि कीमत गिरती है, तो आप व्यापार को बंद कर देंगे और उसके अंतर का लाभ उठाएंगे।

चलिए इस उदाहरण के लिए मान लेते हैं की ब्रेंट कच्चे तेल का बाजार मूल्य $ ७२.२२ प्रति बैरल है। एक लॉट (सीएफडी का मानक आकार) १,००० पाउंड है। इसलिए, ब्रेंट के एक लॉट का मूल्य $ ७,२२२ होगा।

आपके पास उपलब्ध वित्तीय उत्तोलन १:१० है, इसलिए ब्रेंट क्रूड ऑयल के एक लॉट या ७,२२२ डॉलर पर व्यापार खोलने के लिए, आपको अपने ट्रेडिंग खाते पर $ ७२२ की आवश्यकता होगी। ($ ७.२२२ / १० = $ ७२२)।

यदि आपने ७२.२२ पर एक कमोडिटी व्यापार खोला, और फिर इसे ५३.४६ सेंट प्रति पाउंड पर बंद कर दिया, तो व्यापार के शुरुआती मूल्य और व्यापार के समापन मूल्य के बीच का अंतर $ १८.७६ होगा।

Brent crude oil daily chart commodity trading

Depicted: Brent crude oil Daily Chart - Admiral Markets MetaTrader 5. Data Range: April 30, 2019, to June 16, 2020 -अस्वीकरण: इस लेख में वित्तीय साधनों के लिए चार्ट, उदाहरण के उद्देश्यों के लिए हैं और एडमिरल मार्केट्स (सीएफडी, ईटीएफ, शेयर) द्वारा प्रदान किए गए किसी भी वित्तीय उपकरण को खरीदने या बेचने के लिए व्यापारिक सलाह या आग्रह नहीं करता है। पिछला प्रदर्शन भविष्य के प्रदर्शन का संकेत नहीं है।

Brent crude oil weekly chart for commodity trading

Depicted: Brent crude oil Weekly Chart - Admiral Markets MetaTrader 5. Data Range: November 9, 2014, to June 16, 2020 - अस्वीकरण: इस लेख में वित्तीय साधनों के लिए चार्ट, उदाहरण के उद्देश्यों के लिए हैं और एडमिरल मार्केट्स (सीएफडी, ईटीएफ, शेयर) द्वारा प्रदान किए गए किसी भी वित्तीय उपकरण को खरीदने या बेचने के लिए व्यापारिक सलाह या आग्रह नहीं करता है। पिछला प्रदर्शन भविष्य के प्रदर्शन का संकेत नहीं है।

अपने लाभ का पता लगाने के लिए, आपको उस मूल्य अंतर को व्यापार के आकार और एक बिंदु (०. ०१) आंदोलन के मूल्य से गुणा करना होगा। दोनों अनुबंध आकार और बिंदु मूल्य अलग-अलग वस्तुओं के लिए अलग-अलग हैं, इसलिए अग्रिम में इस बारे में पता होना महत्वपूर्ण है।

इस मामले में, आपका व्यापार कमोडिटी ब्रेंट कच्चे तेल के १०० बैरल था जो की काफी कम था। और एक बिंदु (०.०१) आंदोलन का मूल्य $ ०.९० है। यह हमें देता है:

(७२.१६ - ५६.६०) x १०० x $ १,५५६

१५.५६ x १०० x $ १ = $ १,५५६

तो आप $ १४००.४० के व्यापार पर लाभ कमाएंगे! बस याद रखें कि अगर ब्रेंट की कीमत नीचे की बजाय ऊपर गई होती, तो आपको नुकसान होता।

आपके लाभ / हानि की गणना करने का सूत्र प्रत्येक कमोडिटी के लिए समान है - एक बिंदु आंदोलन के मूल्य अंतर x अनुबंध आकार x मूल्य। बस याद रखें कि अनुबंध आकार और बिंदु आंदोलन मूल्य प्रत्येक उपकरण के लिए अलग-अलग हैं, इसलिए आपकी ट्रेडिंग रणनीति पर विचार करने की आवश्यकता है।

Commodity Market Trading में लागत

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आपके व्यापारिक लाभ केवल व्यापार के उद्घाटन और समापन मूल्य के बीच का अंतर नहीं है - आपको व्यापार की लागतों पर भी विचार करने की आवश्यकता है।

कमोडिटी सीऍफ़डी का व्यापार करते समय, विचार करने के लिए तीन संभावित विषय हैं:

१. स्प्रेड: प्रसार एक वित्तीय साधन की बोली (खरीद) और मांग (बेचना) के बीच का अंतर है। उदाहरण के लिए, यदि सोने की बोली की कीमत १४९१.५८ है, और पूछ मूल्य १४९१.७८ है, तो यह ०.२० का अंतर है। किसी व्यापार के लाभदायक होने के लिए, उसे इस प्रसार को पार करने की आवश्यकता होगी।

२. स्वैप: यदि आप ट्रेडों को रात भर खुला रखते हैं, तो प्लेटफॉर्म के समय क्षेत्र में २३:५९ पर शुल्क या समायोजन प्राप्त होता है।

३. कमीशन: कुछ उपकरणों को ट्रेडों को खोलने और बंद करने के लिए कमीशन भी लिया जाता है। एडमिरल मार्केट्स के शेयर और ईटीएफ सीएफडी, शेयर्स और ईटीएफ, विदेशी मुद्रा और कमोडिटीज खाते में कमीशन लिया जाता है।

इसलिए, अपने कमोडिटी ट्रेडिंग लाभ की गणना करने के लिए, आपको ऊपर दिए गए फॉर्मूले से ट्रेडिंग की लागत की गणना करना होगा।

आप अपने कमोडिटी ट्रेडिंग के परिणामें कैसे सुधार सकते हैं? - Commodity Market In Hindi

हमने इस commodity Hindi लेख में अब तक आपको commodity trading basics के बारें में बताया है और उसमे निवेश करने के विभिन्न तरीकों को साझा किया है जिनसे आप उनका व्यापार कर सकते हैं। पर हमने यह नहीं बताया है की आप कैसे सफलतापूर्वक commodity vyapar कर सकते हैं।

जबकि how to trade in commodity market without loss का कोई गारंटी नहीं होती है, फिरभी commodity market trading में सफल होने की संभावना को बेहतर बनाने के लिए कई सुझाव हैं। इसमें शामिल है:

✅ ख़ुदको शिक्षित करना

✅ बाजार का विश्लेषण करना

✅ अपने जोखिम का प्रबंधन करना

✅ अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाना

✅ Learn Commodity Trading

आपकी ट्रेडिंग यात्रा को शुरू करने के लिए उपलब्ध संसाधनों की एक विस्तृत श्रृंखला है, जिसमें मुफ्त वेबिनार, सेमिनार, पाठ्यक्रम, लेख और बहुत कुछ शामिल हैं।

हमने २० वीडियो का एक ऑनलाइन ट्रेडिंग पाठ्यक्रम बनाया है जहाँ सिर्फ commodity vyapar ही नहीं, बल्कि सभी उपकरणों में ट्रेडिंग को चरण-दर-चरण समझाया गया है। यह ऑनलाइन प्रशिक्षण मुफ्त उपलब्ध है। अगर आप ट्रेडिंग सीखना चाहते हैं, तो नीचे तस्वीर में क्लिक कर अभी पंजीकरण करें।   

Register for zero to hero

ट्रेडिंग कैसे करना है, यह जानने का और एक अच्छा तरीका डेमो ट्रेडिंग खाता के साथ व्यापार करने का अभ्यास करना है। एक डेमो खाता से आप अपने ट्रेडिंग मनोविज्ञान या पैसा कैसे प्रबंधन करना है, इसके बारे में सीख सकते हैं। 

✅ कमोडिटी मार्केट का विश्लेषण करें

सफलता के साथ commodity me trading kaise kare के लिए, उन ट्रेडों को बनाने के कारणों को समझना महत्वपूर्ण है। आप क्यों मानते हैं कि एक कमोडिटी ऊपर या नीचे जाने वाली है?

अधिकांश वस्तु विश्लेषण दो श्रेणियों में आते हैं: 

१. मौलिक विश्लेषण

२. तकनीकी विश्लेषण

मौलिक विश्लेषण उन आर्थिक कारकों का विश्लेषण करने पर केंद्रित है जो विभिन्न वस्तुओं की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं - विशेष रूप से वे जो आपूर्ति और मांग से संबंधित हैं, जैसे पहले चर्चा की गई थी। इनमें कुछ तत्व निम्नलिखित है:

✔️ स्थूल आर्थिक तथ्य: जैसे सकल घरेलू उत्पाद, बेरोजगारी और खुदरा बिक्री में रुझान। ये सभी एक अर्थव्यवस्था की ताकत के बारे में संकेत है, और अक्सर औद्योगिक वस्तु की कीमतों की ताकत या कमजोरी से संबंधित हैं।

✔️ विभिन्न वस्तुओं के अंतिम बाजारों की ताकत, जो उन वस्तुओं की मांग को प्रभावित करेगी।

✔️ आपूर्ति का स्तर, जिसका आकलन फ़ीड रिपोर्ट पर USDA की मवेशी जैसी रिपोर्टों में किया जा सकता है। यह रिपोर्ट बाजार में आने वाले मवेशियों की भविष्य की आपूर्ति को इंगित करती है, और कीमतों के बारे में सुराग दे सकती है।

✔️ बाजार चक्र, जैसे कि बाजार एक बुल या बेयर चक्र में हैं। इसमें आज जो कुछ हो रहा है, उसके बारे में निर्णय लेने के लिए बाजार के रुझानों का दीर्घकालिक विश्लेषण शामिल है।

✔️ बड़ी अर्थव्यवस्थाओं से नीतियां बदलना और वे कमोडिटी मांग को कैसे प्रभावित कर सकती हैं।

जैसा कि आप देख सकते हैं, ध्यान में रखने के लिए बहुत सी चीजें हैं! और, यदि आप अपने निपटान में अनुसंधान विश्लेषकों की एक टीम के साथ पूर्णकालिक व्यापारी नहीं हैं, तो मौसम संरचनाओं और सरकार की नीति को ट्रैक करने में मुश्किल साबित हो सकता है।

इसलिए कई व्यापारी अपने व्यापारिक निर्णयों की सहायता के लिए तकनीकी विश्लेषण का भी उपयोग करते हैं।

तो कमोडिटी बाजार का तकनीकी विश्लेषण क्या है? यह केवल एक विशेष वस्तु के लिए मूल्य चार्ट पर पैटर्न और संकेतक देखना है, ताकि भविष्य की दिशा का कोइ सुराग मिले।

उदाहरण के लिए, व्यापारियों के बीच लोकप्रिय एक उपकरण चलती औसत है, क्योंकि वे एक बाजार की समग्र दिशा, या प्रवृत्ति को निर्धारित करने में मदद करते हैं। अनिवार्य रूप से, वे बाजार की 'औसत' कीमत का पता लगाने के लिए पिछली बंद कीमतों के उपयोगकर्ता-परिभाषित संख्या की गणना करते हैं। इस लाइन को तब चार्ट पर प्लॉट किया जाता है ताकि व्यापारी ऐतिहासिक रूप से कीमतों की औसत प्रवृत्ति देख सके।

Gold daily chart commodity trading india

Depicted: Gold Daily Chart - Admiral Markets MT5 Supreme Edition. Data Range: May 1, 2019, to June 16, 2020 - Performed June 16, 2020. अस्वीकरण: इस लेख में वित्तीय साधनों के लिए चार्ट, उदाहरण के उद्देश्यों के लिए हैं और एडमिरल मार्केट्स (सीएफडी, ईटीएफ, शेयर) द्वारा प्रदान किए गए किसी भी वित्तीय उपकरण को खरीदने या बेचने के लिए व्यापारिक सलाह या आग्रह नहीं करता है। पिछला प्रदर्शन भविष्य के प्रदर्शन का संकेत नहीं है।

ऊपर दिए गए चार्ट में, लाल चलती औसत रेखा अंतिम पचास बार के औसत का प्रतिनिधित्व करती है। हरी रेखा पिछले 100 सलाखों के औसत का प्रतिनिधित्व करती है। आप यह देखेंगे कि जब मूल्य बार 50 के चलती औसत से नीचे हैं, और यह 100 चलती औसत से नीचे है, तो कीमतें कम हो जाती हैं। अधिकांश बाजारों में यह समान व्यवहार प्रदर्शित होता है। यह एडमिरल मार्केट्स मेटा ट्रेडर ५ प्लेटफ़ॉर्म पर उपयोग करने के लिए उपलब्ध कई संकेत में से केवल एक प्रकार का संकेतक है।

Start gold trading

 

✅ जोखिम प्रबंधन - कमोडिटी ट्रेडिंग कैसे करे

कई व्यापारी व्यापारिक वस्तुओं पर विचार करते हैं - विशेष रूप से कमोडिटी सीएफडी पर - क्योंकि उत्तोलन तक पहुंच का मतलब है कि वे अपेक्षाकृत छोटे जमा के साथ बड़े पदों पर व्यापार कर सकते हैं, और परिणामस्वरूप उनके लाभ को बढ़ा सकते हैं।

हालांकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि उत्तोलन घाटे को उसी हद तक बढ़ाता है जितना की लाभ, जिसका अर्थ है कि इस प्रकार के व्यापार का जोखिम बढ़ जाता है - खासकर जब पारंपरिक निवेश के साथ तुलना की जाती है।

यही कारण है कि जोखिम प्रबंधन आवश्यक है। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप जोखिम का प्रबंधन कर सकते हैं, जिनमे शामिल हैं:

✔️ प्रभावी धन प्रबंधन: उस पैसे के साथ व्यापार न करें जिसे आप खो नहीं सकते।

✔️ संवेदनशील स्थिति रखना: ट्रेडिंग का एक साधारण नियम यह है कि एक एकल व्यापार को आपके खाते की शेष राशि के २% से अधिक का जोखिम नहीं उठाना चाहिए। इसलिए यदि आपके खाते में $ १,००० हैं, तो आप प्रति ट्रेड $ २० से अधिक का जोखिम नहीं उठाना चाहेंगे। यदि आपके खाते की शेष राशि बढ़ जाती है या घट जाती है, तो भी आपके व्यापार में अधिकतम जोखिम होगा।

✔️ स्टॉप लॉस का उपयोग करना और लाभ लेना: स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट आपके द्वारा निर्धारित स्वचालित स्तर हैं, जिस पर आपका व्यापार बंद हो जाएगा, अर्थात आपको इसे मैन्युअल रूप से बंद करने की आवश्यकता नहीं है। एक स्टॉप लॉस आपको उम्मीद से अधिक नुकसान से रोकने के लिए बनाया गया है। यदि कोई उपकरण आपके खिलाफ जाता है, तो व्यापार स्वचालित बंद हो जाएगा। एक टेक प्रॉफिट इसका विपरीत है - एक व्यापार में जब एक बार लाभ का एक निश्चित स्तर हासिल हो जाता है, तो स्ववो व्यापार चालित रूप से बंद हो जाएगा।

✔️ एक स्पष्ट रणनीति: कई नए कमोडिटी व्यापारी कई यादृच्छिक ट्रेडों को खोलते हैं और आशा करते हैं कि उनमें से एक काम करेगा। कभी कभी अगर वे हार जाते हैं, तो वे एक बड़ी जीत में अपने नुकसान की भरपाई की उम्मीद में और भी बड़े ट्रेड खोलते हैं। इसके बजाय, आपको हमेशा एक रणनीति का पालन करना चाहिए जो यह निर्धारित करेगा कि आप कितना जोखिम लेंगे, जब आप ट्रेडों को खोलेंगे और जब आप उन्हें बंद करेंगे।

✅ अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं - Commodity Trading Kaise Kare In Hindi

क्या आप जानते हैं 'एक टोकरी में अपने सभी अंडे मत डालो?' निवेश के लिए भी सच है - आपको अपने सभी धन को एक परिसंपत्ति, या एक बाजार में नहीं रखना नहीं चाहिए, क्योंकि अगर यह नीचे जाता है तो आप अपना सब कुछ खो सकते हैं।

इसके बजाय, ऐसे पोर्टफोलियो का निर्माण करना महत्वपूर्ण है जो कमोडिटीज सहित परिसंपत्तियों की एक विस्तृत श्रृंखला को ट्रैक करते हैं। तो आपके पास एक पोर्टफोलियो हो सकता है जिसमें शामिल है:

✅ सोने और चांदी जैसी धातु वस्तुएं

✅ प्राकृतिक वस्तुएं जैसे प्राकृतिक गैस और कच्चे तेल

✅ चीनी और कॉफी जैसे कृषि वस्तुएं

✅ कई बाजारों की शेयर - अमेरिका, यूरोप, एशिया-प्रशांत

✅ सूचकांक जो पूरे बाजारों का प्रतिनिधित्व करते हैं

✅ बॉन्ड

और भी बहुत कुछ!

खुश ख़बरी यह है कि आप इन सभी बाजारों में एडमिरल मार्केट्स के साथ सीएफडी के माध्यम से निवेश कर सकते हैं।

सही ब्रोकर चुनना - Commodity Me Trading Kaise Kare

यदि आप कमोडिटी सीएफडी में ट्रेडिंग शुरू करने के लिए ब्रोकर की तलाश कर रहे हैं, तो आपको कई चीज़ों को ध्यान में रखना चाहिए ताकी आप एक ऐसी ब्रोकर चुनें जो सबसे अच्छी स्थिति और उपकरणों की पेशकश करे और आपको सर्वोत्तम ट्रेडिंग परिणाम प्राप्त करने में मदद करे।

यहाँ विचार करने लायक कुछ चीजें हैं:          

✔️ विनियमन: क्या आपके द्वारा चुना गया ब्रोकर्स सम्पूर्ण रूप से विनियमित?

✔️ बाजारों की सीमा: बरोएकर आपको कौनसे बाजार में निवेश की विकल्प देते हैं? कुछ ब्रोकर केवल विदेशी मुद्रा, या क्रिप्टोकरेंसी या शेयर की पेशकश कर सकते हैं। जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है, आपके पोर्टफोलियो में विविधता लाना ट्रेडिंग में सफलता की कुंजी है, और यह एक ऐसे ब्रोकर के साथ विविधता लाने में आसान हो सकता है, जिसके पास प्रस्ताव पर उपकरणों की एक विस्तृत श्रृंखला है। 

✔️ ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म: ब्रोकर किस प्लेटफॉर्म की पेशकश करता है? क्या यह प्रयोग करने में आसान है? क्या अधिक सहायता उपलब्ध है?

✔️ व्यापार की लागत: व्यापार में कितना खर्च होता है? स्प्रेड, कमिशन और स्वैप दर देखना मत भूलें।

✔️ ग्राहक सहायता: वह समर्थन कैसे प्रदान करते हैं? क्या कोई वास्तविक व्यक्ति है जिसे आप कॉल कर सकते हैं, या क्या आपको समर्थन मंचों पर भरोसा करने की आवश्यकता है?

यदि आप कमोडिटी सीएफडी ब्रोकर खोज रहे हैं, तो आप सही जगह पर आए हैं। एडमिरल मार्केट्स ३० से अधिक अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों के साथ एक पुरस्कार विजेता सीएफडी और विदेशी मुद्रा दलाल है।

हम कमोडिटी, फॉरेक्स, शेयर, सूचकांक और ईटीएफ पर सीएफडी सहित हजारों बाजारों में ट्रेडिंग की पेशकश करते हैं। हम दुनिया के पसंदीदा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म - मेटाट्रेडर ४ और मेटा ट्रेडर ५ के माध्यम से भी ट्रेडिंग की पेशकश करते हैं। 

हम बहुत प्रतिस्पर्धात्मक विशिष्ट स्प्रेड के साथ अपनी ट्रेडिंग लागत को कम रखने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। 

इसके इलावा, हम हिंदी में फोन और ईमेल द्वारा सहायता प्रदान करते हैं। 

यदि आप आरंभ करने के लिए तैयार हैं, तो अपना ट्रेडिंग खाता खोलने के लिए नीचे दिए गए बैनर पर क्लिक करें।

Start commodity trading

अगर आप ट्रेडिंग के बारे में और विस्तार से जानना चाहते हैं, तो यह लेख पड़ें:

निवेश का अर्थ - शुरुआती के लिए एक सहज गाइड

Automated trading - एक सरल जानकारी

सफल व्यापारीयों से ट्रेडिंग टिप्स

एडमिरल मार्केट्स एक विश्व स्तर पर विनियमित विदेशी मुद्रा और सीएफडी ब्रोकर जो बहु-पुरस्कार का विजेता है। बहुत सारे उपकारणों के इलावा एडमिरल मार्केट्स के वेबसाइट में कई सरे शिक्षा सम्बंधित लेखे है जहाँ से आपको फोरेक्स, शेयर मार्किट, निवेश और भी बहुत कुछ के बारे मे  तथ्य मिलेगा। दुनिया के सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से 500 से अधिक वित्तीय साधनों पर व्यापार की पेशकश करते हैं: मेटा ट्रेडर 4 और मेटा ट्रेडर 5 ।आज ही ट्रेडिंग शुरू करें!

 

विश्लेषणात्मक सामग्री के बारे में जानकारी:

दिया गया तथ्य एग्लोब इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड की वेबसाइट पर प्रकाशित सभी विश्लेषण, अनुमान, पूर्वानुमान, बाजार समीक्षा, साप्ताहिक दृष्टिकोण या अन्य समान आकलन या जानकारी (इसके बाद "विश्लेषण") के बारे में अतिरिक्त जानकारी प्रदान करता है। कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले कृपया गौर से निम्नलिखित पर ध्यान दें:

  1. यह एक विपणन संचार है। सामग्री केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए प्रकाशित की जाती है और इसे किसी भी तरह से निवेश सलाह या सिफारिश के रूप में नहीं माना जाता है। इसे निवेश अनुसंधान की स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए डिज़ाइन की गई कानूनी आवश्यकताओं के अनुसार तैयार नहीं किया गया है, और यह निवेश अनुसंधान के प्रसार से पहले किसी भी निषेध के अधीन नहीं है।
  2. कोई भी निवेश निर्णय अकेले प्रत्येक ग्राहक द्वारा किया जाता है जबकि एग्लोब इंवेस्टमेंट्स लिमिटेड ऐसे किसी भी निर्णय से होने वाले किसी भी नुकसान या क्षति के लिए जिम्मेदार नहीं होगा, चाहे वह सामग्री पर आधारित हो या नहीं।
  3. हमारे ग्राहकों के हितों और विश्लेषण की निष्पक्षता की रक्षा के लिए, एग्लोब इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड ने हितों के टकराव की रोकथाम और प्रबंधन के लिए प्रासंगिक आंतरिक प्रक्रियाएं स्थापित की हैं।
  4. विश्लेषण एक स्वतंत्र विश्लेषक द्वारा उनके व्यक्तिगत अनुमानों के आधार पर तैयार किया जाता है।
  5. जबकि यह सुनिश्चित करने के लिए हर उचित प्रयास किया जाता है कि सामग्री के सभी स्रोत विश्वसनीय हैं और सभी जानकारी यथासंभव, समझने योग्य, समय पर, सटीक और पूर्ण तरीके से प्रस्तुत की जाती है, एग्लोब इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड सटीकता या विश्लेषण में निहित किसी भी जानकारी की पूर्णता की गारंटी नहीं देता है।
  6. सामग्री के भीतर इंगित वित्तीय साधनों के किसी भी प्रकार के पिछला प्रदर्शन या मॉडल को भविष्य के किसी भी प्रदर्शन के लिए एग्लोब इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड द्वारा व्यक्त या निहित वादे, गारंटी या निहितार्थ के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। वित्तीय साधन के मूल्य में वृद्धि और कमी दोनों हो सकती है और परिसंपत्ति मूल्य के संरक्षण की गारंटी नहीं है।
  7. लीवरेज्ड उत्पाद (कॉन्ट्रैक्ट्स फॉर डिफरेंस सहित) प्रकृति में सट्टा हैं और इसके परिणामस्वरूप नुकसान या लाभ हो सकता है। ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, कृपया सुनिश्चित करें कि आप इसमें शामिल जोखिमों को पूरी तरह से समझते हैं।
Jitanchandra Solanki
Jitanchandra Solanki
वित्तीय बाजार लेखक, एडमिरल्स लंदन

जीतनचंद्र एक वित्तीय बाजार लेखक हैं, जिनके पास 15 से अधिक वर्षों के व्यापारिक मुद्राओं, सूचकांकों और अमेरिकी इक्विटी का अनुभव है। वह BA ऑनर्स की डिग्री के साथ एक मान्यता प्राप्त बाजार तकनीशियन हैं।